सोना महंगा होने से चांदी खरीद रहे लोग, नवरात्र में बिक्री 30% बढ़ी

कोलकाता: नवरात्र-दशहरा के दौरान चांदी की बिक्री पिछले वर्ष की तुलना में 30 फीसदी बढ़ी है. इस साल जुलाई से पहले तक चांदी की कीमतें दो वर्ष से स्थिर थीं, जुलाई से इसमें तेजी आनी शुरू हुई. इस वजह से निवेशकों की इसमें दिलचस्पी बढ़ी है. चांदी के दिसंबर वायदा का भाव फिलहाल 45200 रुपये प्रति किलोग्राम है. यह सोने की तुलना में लगभग आठ गुना सस्ती है.

महाराष्ट्र के अकोला में खंडेलवाल ज्वेलर्स के मालिक नितिन खंडेलवाल ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों में चांदी काफी लोकप्रिय है. आगे दिवाली और धनतेरस का त्योहार है, ऐसे में आगे कीमतें और चढ़ सकती हैं.

सिल्वर इंपोरियम के मैनेजिंग डायरेक्टर राहुल मेहता ने बताया, ‘नवरात्र-दशहरा पर चांदी की मांग पिछले वर्ष की तुलना में 30 फीसदी अधिक रही. गांवों के साथ शहरों से भी मांग देखने को मिल रही है. चांदी में दिलचस्पी बढ़ने का एक कारण इसकी कीमत में आई तेजी है. आने वाले समय में इसके और महंगा होने की संभावना की वजह से खरीदारी बढ़ रही है.’

हालांकि, अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण कंपनियां गिफ्ट के लिए चांदी की कम खरीदारी कर रही हैं. एसेट क्लास के तौर पर चांदी ग्रामीण क्षेत्रों के साथ ही छोटे शहरों में लोकप्रिय है. खंडेलवाल ने बताया कि ज्वेलर्स ने नवरात्र के लिए चांदी के सिक्के और चांदी के बर्तन वगैरह का स्टॉक किया था. खरीफ फसलों की आवक शुरू होने पर चांदी की मांग और बढ़ने की उम्मीद है.

मौजूदा वित्त वर्ष के पहले 5 महीनों यानी अप्रैल से अगस्त के दौरान चांदी का आयात भी बढ़ा है. इस अवधि में चांदी का आयात 3,826.8 टन रहा, जो पिछले वित्त वर्ष (2018-19) की समान अवधि में 3,048.4 टन था. अगस्त में चांदी का आयात 72 फीसदी बढ़कर 543.2 टन रहा. चांदी का निर्यात भी अच्छा रहा है. मौजूदा वित्त वर्ष की पहली छमाही में जेम एंड ज्वेलरी का कुल निर्यात 7.43 फीसदी गिरा है, जबकि चांदी के गहनों के निर्यात में 76.12 फीसदी की तेजी आई है. मेहता ने बताया कि विदेश में हैंडीक्राफ्ट सिल्वर ज्वेलरी की काफी मांग  ..

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *