बिकवाली दबाव से पस्त हुआ बाजार, सेंसेक्स 491 अंक टूटा

नई दिल्ली: हफ्ते के पहले दिन घरेलू शेयर बाजारों में बैंक, ऑटो और मेटल शेयरों में बड़ी बिकवाली देखने को मिली. इससे बाजार के प्रमुख सूचकांक काफी गिर गए. बीएसई सेंसेक्स लगातार चौथे सत्र लाल निशान में बंद हुआ है. बाजार की कमजोरी में सबसे अहम भूमिका वैश्विक संकेतों की रही.

वैश्विक अर्थव्यवस्था में पनप रही कमजोरी के साथ ट्रेड वॉर चिंता का सबब बना हुआ है. इधर, लिक्विडिटी संकट भी गहरा रहा है. साथ ही आम बजट के पहले कारोबारी सौदों में सतर्कता बरत रहे हैं. पूर्ण बजट 5 जुलाई को पेश होगा.

बीएसई सेंसेक्स 491 अंक या 1.25 फीसदी का गोता लगाकर 38,961 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी 50 इंडेक्स 151 अंक या 1.28 फीसदी लुढ़क कर 11,672 अंक पर आ गया. मिडकैप इंडेक्स और स्मॉलकैप इंडेक्स ने भी सवा फीसदी तक गिरावट दर्ज की.

निफ्टी 50 इंडेक्स पर सिर्फ चार ही शेयरों में तेजी दर्ज की गई. इसमें Yes Bank का नाम सबसे ऊपर रहा. इसके अलावा सिर्फ, Zee Entertainment, Coal India और Wipro के ही शेयरों में थोड़ी-बहुत तेजी देखने को मिली.

दूसरी तरफ, Tata Steel के शेयरों ने 6 फीसदी का गोता लगाया. इसके अलावा JSW Steel, Tata Motors, Indiabulls Housing Finance, ONGC, Vedanta, Indian Oil, Sun Pharma, Reliance Industries और Axis Bank के शेयर सबसे ज्यादा पिटे.

सोमवार को सभी सेक्टर्स के सूचकांकों ने लाल निशान के साथ सत्र का अंत किया. मेटल इंडेक्स ने 3 फीसदी तक का गोता लगाया. सरकारी बैंक, रियल्टी, मीडिया, ऑटो, निजी बैंक और फार्मा सेक्टर के सूचकांक भी एक से डेढ़ फीसदी तक गिर गए.

मेटल और ऑटो इंडेक्स पर सिर्फ दो-दो शेयर चढ़े. ऑटो इंडेक्स पर अपोलो टायर्स के शेयरों ने 8.5 फीसदी की छलांग लगाई. सरकारी बैंक इंडेक्स पर सिर्फ सिंडिकेट बैंक के शेयर चढ़े. मीडिया इंडेक्स पर नेटवर्क 18 के शेयरों ने 5 फीसदी की कमजोरी दर्ज की.

सोमवार के सत्र के दौरान एनएसई पर केवल दस कंपनियों के शेयरों ने अपने 52 सप्ताह का उच्चतम स्तर हासिल किया. इसके उलट, 275 कंपनियों के शेयर अपने 52-सप्ताह के न्यूनतम स्तर तक फिसले.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *