क्रूड ऑयल प्राइस टुडे: कच्चे तेल में तेजी, जानिये क्या हैं वजहें

नई दिल्ली. बुधवार को कच्चे तेल की कीमतों में तेजी दिख रही है. वैश्विक ग्रोथ में सुस्ती की आशंका के बावजूद ओपेक और उसके सहयोगी देशों द्वारा उत्पादन में कटौती जारी रखने की घोषणा से कच्चे तेल को सपोर्ट मिला है. बुधवार को विदेशी बाजार में कच्चे तेल में बड़ी गिरावट आ गई थी.

ऑयल एंड एनर्जी की कीमत और अन्य विवरण देखें
सितंबर डिलीवरी के लिए ब्रेंट क्रूड वायदा 36 सेंट या 0.6 फीसदी चढ़कर 62.76 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था. अगस्त के लिए अमेरिकी कच्चे तेल का वायदा 29 सेंट या 0.5 फीसदी की तेजी के साथ 56.54 डॉलर प्रति बैरल था. दोनों बेंचमार्क मंगलवार को 4 फीसदी से अधिक लुढ़क गए थे.

अमेरिकन पेट्रोलियम इंस्टीट्यूट (एपीआई) ने कहा है कि पिछले हफ्ते अमेरिका में कच्चे तेल का स्टॉक 50 लाख बैरल गिर गया है. बाजार का अनुमान 30 लाख बैरल घटने का था. अमेरिका में क्रूड भंडार के सरकारी आंकड़ें आज आएंगे.

इस बीच, मॉर्गन स्टेनली ने मंगलवार को जारी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि उसने लंबी अवधि में ब्रेंट का दाम पिछले अनुमान (65 डॉलर प्रति बैरल) से घटाकर 60 डॉलर प्रति बैरल कर दिया है. उसने यह भी कहा है कि 2019 में तेल बाजार में मोटे तौर पर संतुलन दिख रहा है.

गौरतलब है कि ओपेक देश और गैर-ओपेक रूस समेत कच्चे तेल का उत्पादन करने वाले देश 2017 से 12 लाख बैरल रोजाना उत्पादन कटौती कर रहे हैं. जून में यह डेडलाइन खत्म हो रही थी, जिसे मार्च 2020 तक के लिए बढ़ा दिया गया है.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *