क्रूड ऑयल प्राइस टुडे: कच्चा तेल फिसला, अमेरिका में भंडार बढ़ने का असर

नई दिल्ली: अमेरिका में कच्चे तेल का भंडार घटने की खबर से बुधवार को इसकी कीमतों में गिरावट आई. आज अंतर्राष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड फ्यूचर्स का भाव 19 सेंट या 0.30 फीसदी गिरकर 64.08 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. मंगलवार को ब्रेंट क्रूड का भाव करीब 1 फीसदी चढ़ा था.

हालांकि, अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड डील होने की संभावना से कीमतों में बड़ी तेजी नहीं आ पाई. चीन और अमेरिका, दुनिया के दो सबसे बड़े क्रूड की खपत वाले देश हैं. दोनों देशों के बीच पिछले करीब 16 महीने से व्यापार युद्ध चल रहा है.

वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) क्रूड वायदा 17 सेंट या 0.29 फीसदी गिरकर 58.24 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. इससे पहले दो कारोबारी सत्रों में कच्चे तेल का भाव चढ़ा था. मंगलवार को ब्रेंट क्रूड का दाम 1.4 फीसदी चढ़ा था. चढ़ गई जबकि अमेरिकी कच्चे तेल में इस दौरान 1.1 फीसदी की तेजी आई थी.

मंगलवार को जारी अमेरिकी पेट्रोलियम संस्थान के आंकड़ों के अनुसार बीते हफ्ते (22 नवंबर को खत्म हफ्ते में) अमेरिका में कच्चे तेल के स्टॉक में 36 लाख बैरल की वृद्धि हुई. यह आंकड़ा इसलिए काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि विश्लषकों को कच्चे तेल का भंडार 4 लाख 18 हजार बैरल घटने की उम्मीद थी.

अब बाजार की नजर अमेरिका में आज जारी होने वाले कच्चे तेल के सरकारी आंकड़ों पर हैं. अमेरिकी ऊर्जा सूचना प्रशासन (ईआईए) आज अपने कच्चे तेल के भंडार के आधिकारिक आंकड़े जारी करेगा. इसके अलावा कच्चे तेल का उत्पादन करने वाले देशों के संगठन ओपेक 5 दिसंबर को बैठक करने की योजना बना रहा है. माना जा रहा है कि समूह 6 दिसंबर को कच्चे तेल को लेकर अपनी नीतियां साफ करेगा.

वहीं दूसरी ओर, घरेलू बाजारों की बात करें तो कच्चे तेल में हल्की तेजी दिख रही है. आज दोपहर एक बजे एमसीएक्स पर कच्चे तेल का भाव 0.02 फीसदी चढ़कर 4164 रुपये पर कारोबार कर रहा था. ब्रोकरेज फर्म एसएमसी ग्लोबल का कहना है कि आज के सत्र में कच्चे में दबाव दिख सकता है. आज कच्चे तेल का भाव 4100 रुपये का स्तर दिखा सकता है, जबकि 4,220 रुपये के आसपास इसमें प्रतिरोध दिख सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *