क्या डोनाल्ड ट्रंप के भारत में दौरे के विषय में ये बातें जानते हैं आप?

मुंबई: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दो दिन (24 और 25 फरवरी) के भारत के दौर पर आ रहे हैं. सोमवार और मंगलवार को होने वाले इस कार्यक्रम में उनके साथ उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप और उच्च स्तरीय अधिकारियो का एक दस्ता भी होगा. जानिए उनकी दौर से जुड़ी हर जानकारी:

प्रश्न: डोनाल्ड ट्रंप अपने दौरे में भारत में कहां-कहां जाएंगे?

उत्तर: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 24 और 25 फरवरी के अपने दौरे में अहमदाबाद, आगरा औ नई दिल्ली जाने वाले हैं. इस दौरान वे कई कार्यक्रमों में शामलि होंगे.

प्रश्न: उनके साथ कौन-कौन आ रहा है?
उत्तर: उनके साथ अमेरिका की फर्स्ट लेडी और उनकी पत्नी मलेनिया ट्रंप, उनकी बेटी इवांका, दमाद जारेज कुशनर के अलावा एक बेहद उच्च स्तरीय और शक्तिशाली दस्ता आ रहा है.

इस दस्ते में अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रोबर्ट ओ’ब्रायन, वित्त सचिव स्टीव न्युकिन, वाणिज्य सचिव विल्बर रॉस और ऊर्जा सचिव डैन ब्रूइलेट शामिल होने वाले हैं.

प्रश्न: ट्रंप के इस भारत दौर से क्या उम्मीदें हैं?
उत्तर: भारत और अमेरिका के बीच पांच मसलों पर सहयोग समझौतों पर हस्ताक्षर हो सकता है इसमें बौधिक संपदा अधिकार (आईपीआर), कारोबारी समन्वय और आंतरिक सुरक्षा के मसले शामिल हो सकते हैं. यह ट्रंप का पहला भारत का दौरा है.

इसके अलावा, आतंकवाद से निपटने, इंडो-पेसेफिक क्षेत्र में मजबूत पकड़ और रक्षा को बेहतर करने के अलावा कारोबारी गठजोड़ के प्रयासों पर भी अमल हो सकता है. भारत की बड़ी चिंता एच1बी वीजा से जुड़ी है, जिस पर बात संभव है.

प्रश्न: अमेरिका और भारत के बीच कारोबार की स्थिति कैसी है?
उत्तर: केयर रेटिंग्स के अनुसार, अमेरिका निर्यात के मामले में भारत का सबसे बड़ा कारोबारा पार्टनर है. वित्त वर्ष 2018-19 में भारत के कुल निर्यात का 15.9 फीसदी अमेरिका गया था. भारत में आयात के मामले में अमेरिका दूसरे नंबर पर है, जिसकी कुल आयात में 6.9 फीसदी की हिस्सेदारी है.

वित्त वर्ष 2014-15 से वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान अमेरिका में भारत का निर्यात 5.4 फीसदी वार्षिक दर से बढ़ा, मगर भारत का अमेरिका से आयात 13 फीसदी की वार्षिक दर से हुआ है.

प्रश्न: क्या कोई बड़ी कारोबारी डील भी हो सकती है?
उत्तर: डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के साथ किसी बड़ी कारोबारी डील के नकारात्मक संकेत ही दिए हैं और कहा है कि आने वाले समय में दोनों मुल्कों के बीच बड़ी कारोबारी डील हो सकती है. हालांकि, उन्होंने संकेत दिए हैं यदि बातचीत के नतीजे अच्छे नहीं निकले, तो डील पर वाद नरम पड़ सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: