इन 5 शेयरों पर नहीं पड़ा अर्थव्यवस्था की सुस्ती का असर, आगे भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद

चुनाव के बाद से शेयर बाजार तेजी के रथ पर सवार है. केंद्र में स्थिर सरकार आने के बाद सुधारों की रफ्तार बढ़ने की उम्मीद है. लोगों को यह भी आस है कि कारोबार के लिए कुछ सकारात्मक कदम उठाए जाएंगे. विदेशी पोर्टफोलियो न‍िवेशकों (FPI) के बढ़ते निवेश ने बाजार को बल दिया है. हालांकि, आर्थिक विकास में सुस्ती, बढ़ती बेरोजगारी और एनबीएफसी के संकट को लेकर कुछ चिंताएं बनी हुई हैं.

एनबीएफसी के क्रेडिट संकट ने कुल खपत को प्रभावित किया है. इसका असर कंपनियों की अर्निंग ग्रोथ पर पड़ा है. मार्च तिमाही में बीएसई 500 इंडेक्स की 493 कंपनियों ने -2.5 फीसदी की ईपीएस ग्रोथ रेट दर्ज की. दिसंबर तिमाही में यह दर 6.2 फीसदी थी.

मौजूदा आर्थिक चुनौतियों के बीच भी कुछ कंपनियों ने शानदार प्रदर्शन किया. हमने ऐसी 5 कंपनियों की पहचान की है. इन्होंने रेवेन्यू और प्रॉफिट की ग्रोथ को कायम रखा है. इसके चलते एक, तीन और पांच साल की अवधि में इन्होंने अपने बेंचमार्क से बेहतर रिटर्न दिया.

1. शेमारू एंटरटेनमेंट यह एंटरटेनमेंट कंपनी कंटेंट ओरनरशिप, एग्रीगेशन और डिस्ट्रीब्यूशन के क्षेत्र में काम करती है. यह 30 से ज्यादा देशों में प्रीमियम कंटेंट सेवाएं देती है. मार्च तिमाही में कंपनी ने अच्छे EBITDA मार्जिन के साथ बढ़िया रेवेन्यू ग्रोथ दर्ज की. विश्लेषक मानते हैं कि डिजिटल सेगमेंट में इसकी शानदार मौजूदगी है. इसके चलते शेमारू ओटीटी प्लेटफॉर्म और यूट्यूब के जरिये डिजिटल रेवेन्यू पर फोकस बनाए रहेगी. कंपनी के मैनेजमेंट को भरोसा है कि भविष्य में डिजिटल ऐड पर खर्च बढ़ाने के कारण कंपनी के रेवेन्यू ग्रोथ में स्थिरता आएगी.

2. भारत फाइनेंशियल इंक्लूजन यह गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) है. माइक्रोफाइनेंस और रूरल बैंकिंग सर्विसेज क्षेत्र में कंपनी काम करती है. निर्मल बंग की रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार, भविष्य में कंपनी कई कारणों से अच्छा कर सकती है. मजबूत कलेक्शन टीम, दोपहिया वाहनों को कर्ज देने की रफ्तार में तेजी, पायलट प्रोजेक्टों की क्रॉस-सेलिंग इत्यादि इनमें प्रमुख हैं. इसकी एसेट क्वालिटी भी कंट्रोल में है.

3. बायोकॉन यह बायोफार्मास्यूटिकल कंपनी डायबिटीज, ओंकोलॉजी और इम्यूनोलॉजी जैसी क्रोनिक थिरेपी में बायलॉजिक्स की खोज और विकास में काम करती है. जेपी मार्गन का मानना है कि बाजार की मौजूदा स्थितियों का फायदा उठाने के लिए कंपनी मजबूत स्थिति में है. इसके पास मजबूत मैनेजमेंट टीम है. भविष्य में इसकी कमाई को बढ़ाने में कई चीजें काम कर सकती हैं. इनमें कोर बिजनेस में ग्रोथ की रफ्तार, अमेरिका/ईयू में मंजूरी, अगले दो साल में नए लॉन्च और उभरते बाजारों में डबल-डिजिट ग्रोथ शामिल हैं.

4. एमफेसिस यह कंपनी आईटी सॉल्यूशन प्रदान करती है. इसकी कई क्षेत्रों में विशेषज्ञता है. इनमें ऐप डेवलपमेंट एंड मेनटिनेंस सर्विस, इंफ्रास्ट्रक्चर आउटसोर्सिंग सर्विसेज और बिजनेस एंड नॉलेज प्रोसेस आउटसोर्सिंग सॉल्यूशंस शामिल हैं. नई पीढ़ी की सेवाओं में ज्यादा हिस्सेदारी और नए क्लाइंटों के जुड़ने से विश्लेषक इस कंपनी को लेकर काफी उत्साहित हैं. कम कीमत पर उपलब्ध होना भी इस शेयर के प्रति आकर्षण बढ़ा रहा है.

5. एचसीएल टेक्नोलॉजीज यह डिजिटल, क्लाउड और ऑटोमेशन के क्षेत्र में कई प्रोडक्ट और सेवाओं की पेशकश करती है. मार्च तिमाही में कंपनी ने अच्छे नतीजे दर्ज किए हैं. कंपनी के प्रबंधन को लगता है कि आईबीएम से सॉफ्टवेयर प्रोडक्टों की खरीदारी मध्यम से लंबी अवधि में EBIT मार्जिन को बढ़ाएगी.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *